Swami Vivekanand

20, Swami Vivekanand

Swami Vivekanand, भजन, Bhajan, Bhakti, Sai
Written by The Great Gujju
जो सन्मान से कभी गर्वित नहीं होते, अपमान से 
क्रोधित नहीं होते,  और क्रोधित होकर भी जो 
कभी कठोर नहीं बोलते वास्तव में वे श्रेष्ठ होते हें.  

 

About the author

The Great Gujju

Leave a Comment