Great Thinkers Hindi Quotes Swami Vivekanand

18, Swami Vivekanand

Swami Vivekanand. Vinoba bhave, Atal Bihari Bajpai, Advani, Yogi
Written by The Great Gujju
वृक्ष कभी इस बात पर व्यथित नहीं होता कि उसने कितने 
पुष्प खो दिए, वह सदैव नए फूलों के सृजन में व्यस्त रहता है, 
जीवन में कितना कुछ खो गया, इस पीड़ा को भूल कर, 
क्या नया कर सकते हैं, इसी में जीवन की सार्थकता है.  

 

About the author

The Great Gujju

Leave a Comment